जानिए विवाह में सात फेरे ही क्यों लेते है ?

जानिए हिन्दू धर्म में विवाह में सात फेरे ही लेने का मनोवैज्ञानिक कारण।

पाणिग्रहण संस्कार का हिन्दू धर्म मे बहूत महत्व है। पाणिग्रहण को सामान्यतया विवाह के नाम से जाना जाता है। किसी वर् द्वारा वचन ओर नियम स्वीकार करते हुए अपना हाथ कन्या के हाथों मे सौप दे ये उन दोनो का पाणिग्रहण कहलाता है। अब वर्तमान  मे इसे कन्या दान के नाम से जाना जाता है जो कि सही नहीं है। विवाह का संधि विच्छेद “वी+वाह” है जिसका शाब्दिक अर्थ विशेष रूप से (उत्तरदायित्व का) वहन करना होता है।

saat-phere (3)

हिन्दू धर्म में “सात फेरे या सप्तपदी” को जीवन का सबसे महत्वपूर्ण अंग माना गया है। विवाह में जब तक 7 फेरे नहीं हो जाते, तब तक विवाह संस्कार पूर्ण नहीं माना जाता।

ॐ यदैषि मनसा दूरं, दिशोऽ नुपवमानो वा।
हिरण्यपणोर् वै कर्ण, स त्वा मन्मनसां करोतु असौ।। -पार.गृ.सू. 1.4.15

इन सात चक्रों से हमारा शरीर जुड़ा होता है। जिनमें हमारे शरीर सात प्रकार बताए गए है।

1.स्थूल शरीर

2.सूक्ष्म शरीर

3.कारण शरीर

4.ब्रह्म शरीर

5.आत्मिक शरीर

6.दिव्य शरीर और

7.मानस शरीर।

·हमे ईश्वर से सात उपहार प्राप्त हुए – आत्मा के विवेक, प्रज्ञा, भक्ति, ज्ञान, शक्ति, ईश्वर का भय।

·हमारे जीवन में सात पाप- अभिमान, लोभ, क्रोध, वासना, ईर्ष्या, आलस्य, अति भोजन।

·सात तरह के अभिवादन – माता, पिता, गुरु, ईश्वर, सूर्य, अग्नि और अतिथि।

इन सब को ध्यान में रखते हुए वर और कन्या जीवनपर्यंत एक दूसरे से जुड़ने जा रहें है। इस कारण से दोनों को ईश्वर की शपथ के साथ सात वचन लेते है एक वचन एक फेरे में लिया जाता है। इस प्रकार सात फेरे होते है।

saat phere

सप्तवचन में पहला वचनपग भोजन की व्यवस्था के लिए, दूसरा शक्ति संचय, आहार तथा संयम रखने के लिए, तीसरा वचन  धन के प्रबंध की व्यवस्था करने के लिए, चौथा आत्मिक सुख हेतु , पांचवां वचन पशुधन संपदा के लिए , छठा सभी ऋतुओं में उचित रहन-सहन हेतु तथा अंतिम 7वें वचनपग कन्या अपने पति का अनुगमन करते हुए सदैव साथ चलने का वचन लेती है तथा सहर्ष जीवनपर्यंत पति के प्रत्येक कार्य में सहयोग देने की प्रतिज्ञा करती है।

saat-phere (1)

इस पर प्रकार वर एवं कन्या अग्नि के 7 फेरे लेकर और ध्रुव तारे को साक्षी मानकर दो तन, मन तथा आत्मा एक पवित्र बंधन में बंध जाते हैं।

[display-posts category=”LifeStyle” posts_per_page=”5″ title=”✍पढ़े 5 ताजा चटपटी ख़बरें :”]

देश दुनिया की ताज़ा चटपटी खबरों के लिए पढ़ते रहिये चटपटी खबर chatpatikhabar.in पर और हमारा  facebook  और  twitter पेज लाइक जरूर करे । पसंद आये तो शेयर ज़रूर करना ।