Dussehra 2016 Essay on Dussehra in Hindi English Dasara Celebration Speech

Dussehra 2016 Essay on Dussehra in Hindi English Dasara Celebration Speech –

दशहरा हिन्दुओं में मनायें जाने वाला एक प्रमुख त्योहार है । यह त्योहार भारत में अशिवन महीने के शुक्ल पक्ष में दस दिनों तक मनाया जाता है । इन दिनों में माँ दुर्गा के विभिन्न रूपों की पूजा-अर्चना की जाती है । और त्योहार का अंतिम दिन विजयादशमी के रूप में मनाया जाता है । इस त्योहार का मुख्य संदेशअसत्य पर सत्य की जीत है ।

माँ दुर्गा शक्ति की अधिष्ठात्री देवी हैं । हर मनुष्य के जीवन में शक्ति का बहुत महत्त्व है। इसलिए भक्तगण माँ दुर्गा से शक्ति की पूजा अर्चना करते हैं । पं.बंगाल, बिहार, झारखंड आदि प्रांतों में महिषासुर मर्दिनी माँ दुर्गा की प्रतिमा स्थापित की जाती है । नौ दिनों तक दुर्गासप्तशती का पाठ चलता है । इस दौरान शंख, घड़ियाल और नगाड़े बजाये जाते हैं । पूजा-स्थलों में धूम मची रहती है । तोरणद्वार सजाए जाते हैं । नवरात्र में लोगो के द्वारा व्रत एवं उपवास रखे जाते हैं । मंदिरों में विशेष पूजा-अर्चना होती है।

Dussehra 2016 Essay on Dussehra in Hindi English Dasara Celebration Speech

Dussehra 2016 Essay on Dussehra in Hindi English Dasara Celebration Speech

Essay on Dussehra in Hindi

दशहरा पर निबंध हिंदी में

भारत में विजयदशमी के नाम से मनाया जाने वाला त्योहार दशहरा कहलाता है। यह त्योहार हिन्दू धर्म के द्वारा हर साल पूरे भारत में बेहद खुशी और हर्सोउल्लास के साथ मनाया जाता है। यह पावन पर्व हर साल दिपावली के 20 दिन पहले सितंबर या अक्टूबर के महीने में पड़ता है। ये दिवस राक्षस राजा रावण पर राम के जीत की खुशी में मनाया जाता है। दशहरे का यह पर्व बुराई पर अच्छाई की जीत के रुप मनाया जाता है। जिस दिन भगवान राम ने रावण को मारा उसी दिन से दशहरा मनाया जा रहा है। ये पर्व प्रचीन काल से ही चला आ रहा है।

प्राचीन समय में, राजा राम को उनके राज्य अयोध्या से 14 साल के लिये वनवास पर भेज दिया गया था। वनवास के आखिरी सालों में रावण ने सीता का हरण कर लिया। ऐसा कहा जाता है कि राम के भाई लक्ष्मण ने रावण की बहन के नाक-कान काट दिये थे जिस कारण रावण ने लक्ष्मण की भाभी सीता का अपहरण कर लिया। लोग इस पर्व को ढ़ेर सारी खुशी और उत्साह के साथ मनाते है।

दशहरे वाले दिन हर तरफ जगमगाती रोशनी और पटाखों की शोर से गूँजता माहौल बना होता है । बच्चे और बाकी सभी लोग पूरी रात रामलीला देखते है। रामलीला मंचन के द्वारा वास्तविक लोग रामायण के पात्रों और उनके इतिहास को बताते है। हजारों की संख्या में आदमी, औरत और बच्चे रामलीला मैदान में अपने पास के क्षेत्रों से इस उत्सव का आनन्द उठाते है।

Read Here – Happy Dasara Facebook Status 2016 

Essay on Dussehra in English

Dussehra is a most critical Hindu celebration commended each year by the Hindu Peoples everywhere throughout the nation. It is a religious and social celebration which each children and youngsters must know. In the schools and universities, article composing is a typical and best approach to upgrade information and aptitude of the understudies. We have given here different passages and exposition on Dussehra for the understudies. Dussehra essay given below.

The celebration of Dussehra (likewise called Vijayadashmi) is praised each year by the Hindu individuals everywhere throughout the nation. It falls each year in the month of September or October before twenty days of Diwali celebration. It is praised by the Hindu Peoples in the satisfaction of winning of Lord Rama over the evil spirit ruler Ravana. The celebration of Dussehra demonstrates the triumph of truth over abhorrence power. The day Lord Rama got triumph by killing the devil ruler Ravana began celebrating as the Dussehra celebration by the general population from antiquated time.

In the old time, Prince Rama was ousted of his kingdom of Auyodhya for a long time to the backwoods. Amid the most recent year of his outcast, Ravana seized his better half, Seeta. It is said that Lakshman had cut the nose of sister of Ravana that is the reason Ravana captured Lakshman’s sister-in-law, Seeta. Peoples praise this celebration with heaps of happiness and confidence.

Dussehra 2016 Essay on Dussehra in Hindi English Dasara Celebration Speech

Dussehra 2016 Essay on Dussehra in Hindi English Dasara Celebration Speech
Dussehra 2016 Essay on Dussehra in Hindi English Dasara Celebration Speech

Dasara Celebration Speech in Hindi

दशहरे पर भाषण हिंदी में

दशहरा भारत में मनाये जाने वाला एक महत्वपूर्ण और लंबा उत्सव है। जो कि पूरे देश में उत्साह, प्यार, विश्वास और सम्मान के साथ हिन्दू धर्म के लोगों द्वारा मनाया जाता है। सभी के द्वारा ख़ुशी से सराबोर करने के लिये ये वाकई अच्छा समय होता है। दशहरा के उत्सव पर स्कूल और कॉलेजों से भी कुछ दिनों की छुट्टी मिल जाती है। ये पर्व हर वर्ष सितंबर और अक्टूबर के महीने में दिवाली के 20 दिन पहले पड़ता है। लोगों को दशहरे त्योंहार का बड़ी बेसब्री से इंतजार रहता है।

भारत एक ऐसा अच्छी संस्कृति वाला देश है जो अपनी परंपरा और संस्कृति, मेले और उत्सव के लिये जाना जाता है। यहाँ हर पर्व को लोग पूरे हर्षो उल्लास और खुशी के साथ मनाते है। हिन्दू पर्व को महत्व देने के साथ ही इस त्योंहार को पूरी खुशी के साथ मनाने के लिये भारत की सरकार द्वारा दशहरा के इस उत्सव पर राजपत्रित अवकाश की घोषणा की जाती है। दशहरा का अर्थ है ‘बुराई के राजा रावण पर अच्छाई के राजा राम की जीत’ जिसका मतलब असत्य पर सत्य की जीत से है। दशहरा का वास्तविक अर्थ दस सर वाले असुर का इस पर्व के दसवें दिन पर अंत है। पूरे देश में सभी लोगों द्वारा रावण को जलाने के साथ ही इस उत्सव का दसवाँ दिन मनाया जाता है।

देश के विभिन्न क्षेत्रों में लोगों के रीति-रिवाज और परंपरा के अनुरूप इस उत्सव को लेकर कई सारी कहानियाँ है। इस उत्सव की शुरुआत हिन्दू लोगों के द्वारा उस दिन से की गई जब भगवान श्रीराम ने असुर पापी राजा रावण को दशहरा के दिन मार दिया था (हिन्दू तिथि के अनुसार अश्वयुजा महीने में)। भगवान राम ने रावण को इसलिये मारा क्योंकि उसने माता सीता का हरण कर लिया था और वापस करने के लिये तैयार नहीं था। इसके बाद भगवान राम ने हनुमान की वानर सेना और लक्ष्मण के साथ मिलकर रावण का विनाश किया।

निश्चय की विजयादशमी का यह त्यौहार बुराइयों पर अच्छाई का प्रतीक है । वहीं इस पर्व से हमें यह बात भी सिखने को मिलती है। कि हमें रावण के पुतले ही नहीं जलाने हैं वरन् अपने भीतर की बुराई, अर्थात् रावण को मारना है । हमें अपना तन और मन दोनों ही पवित्र करने है । अत: यह विजयादशमी का पावन पर्व है हमारी धार्मिक आरथा का, हमारे आदर्शो का, हमारी लोक-आस्थाओं का ।

Dasara Celebration Speech in English

The celebration of Dusshera is praised with extraordinary grandeur and demonstrate everywhere throughout the nation. It is a big occasion in India. Every one of the schools, universities, instructive establishments and government workplaces are shut on this day to stamp the festival. In numerous schools and universities address rivalry is orchestrated on the day preceding Dusshera. Kids are required to give a discourse on Dusshera and its festival. Thus we have set up an article for you all to deal with the issue on papers. Trust you think that its valuable and appreciate understanding it.

The celebration of Dusshera is additionally known by the name Vijaya Dashmi. It falls amid September/October. The festivals happen everywhere throughout the nation with awesome worship. Preceding Dusshera individuals watch 9 days of fasting. Individuals go to Goddess Durga. The festival is set apart by Durga Pooja in West Bengal and the conventional people move Garba and Dandiya in Gujarat. Individuals are immersed in petitions and love Goddess Durga.

Following 9 days of supplication on the tenth day the festival of Dusshera is finished with incredible adoration and satisfaction. This celebration is otherwise called Vijaya Dashmi. It is praised as the image of triumph of good over insidiousness. On this day colossal representations of Ravana are set to flame to symbolize the thrashing of malevolence forces.